नसीरुद्दीन शाह और रसिका दुग्गल की फिल्म 'द् मिनीआटुरिस्ट आॅफ जुनागढ़' न्यू यॉर्क इंडियन फिल्म फेस्टिवल

इस फिल्म को कौशल ओझा ने लिखा और डायरेक्ट किया। यह कहानी आस्ट्रिया-हंगरी राइटर स्टेफन ज्वेग द्वारा लिखा कहानियों पर बेस्ड हैं। देखना होगा फिल्म फेस्टिवल में लोगों को यह फिल्म कितनी पसंद आती है।

 
नसीरुद्दीन शाह और रसिका दुग्गल की फिल्म 'द् मिनीआटुरिस्ट आॅफ जुनागढ़' न्यू यॉर्क इंडियन फिल्म फेस्टिवल में हो रही हैं रिलीज

न्यू यॉर्क इंडियन फिल्म फेस्टिवल की शुरुआत हो चुकी है, 4 जून से 13 जून तक यूएसए में  फिल्म फेस्टिवल का आयोजन किया गया है। जिसमे इस बार 18 भाषाओं की कुल 58 भारतीय फिल्मों को दिखाया जाएगा। वहीं यूएसए के साथ-साथ आॅनलाइन भी फिल्मों की टिकट बुक करते हुए देखा जा सकता है। मराठी,बंगाली, हिंदी, तमिल, तेलुगु जैसी 18 भाषाओं की फिल्मों के ट्रेलर और टीजर को भी रिलीज किया जा चुका है। भारतीय डायरेक्टर और फिल्ममेकर्स की कई कहानियों को इस बार दिखाया जा रहा है।इन्हीं में से फिल्म 'द् मिनीआटुरिस्ट आॅफ जुनागढ़' को फिल्म फेस्टिवल में रिलीज किया जा रहा है। इस फिल्म में दिग्गज कलाकार नसीरुद्दीन शाह मुख्य किरदार निभा रहे हैं। वहीं नसीरुद्दीन के अलावा इस फिल्म में रसिका दुग्गल, राज अर्जुन, पद्मावती राव और उदय चंद्र मुख्य भूमिका निभा रहे हैं। फिल्म के ट्रेलर और पोस्टर को शेयर कर सभी कलाकार एक्साइटेड दिखे। इस फिल्म को यूएस में और आॅनलाइन वेबसाइट पर टिकट बुक करते हुए देखा जा रहा है।

और भी पड़ें: अनुष्का शर्मा के पीआर से लेकर उनकी को-स्टार परिणीति चोपड़ा ने शेयर की अपनी 'कूल' जर्नी

इस फिल्म की कहानी साल 1947 के समय की हैं ।भारत-पाकिस्तान के बंटवारे का समय, जंहा पाकिस्तान के एक बुढ़े कलाकार हुसैन नक्श को अपने पुश्तैनी पैतृक घर को भारत में छोड़ पकिस्तान कराची अपने परिवार संग जाना पड़ता है।‌ हुसैन जो बेहतरीन पेंटर हैं उसके द्वारा बनाई कई पेंटिंग्स भारत के उस घर में रह जाती है, उस घर के मालिक को जब हुसैन की पेंटिंग्स के बारे में पता चलता है तो वह उसे लौटाने की कोशिश करता है पर इन पेंटिंग्स से कुछ राज जुड़े होते हैं जो हुसैन के परिवार वाले घर के मालिक और हुसैन दोनों से छुपा कर रखना चाहते हैं।इस फिल्म के रिलीज होने पर रसिका दुग्गल एक्साइटेड दिखी वहीं नसीरुद्दीन के साथ पहली बार काम करने पर रसिका ने कहा कि, नसीर जी के साथ काम कर यूं लगा कि मैं एफटीआईआई के वो दौर फिर से जी रही हूं उनसे बहुत कुछ सीखने मिला। बता दें कि, इस फिल्म को कौशल ओझा ने लिखा और डायरेक्ट किया। यह कहानी आस्ट्रिया-हंगरी राइटर स्टेफन ज्वेग द्वारा लिखा कहानियों पर बेस्ड हैं। देखना होगा फिल्म फेस्टिवल में लोगों को यह फिल्म कितनी पसंद आती है।

Disclaimer: This post has been auto-published from an agency news helpline feed without any modifications to the text and has not been reviewed by an editor