'शो कार्टेल में मेरा किरदार बहुत ही ईविल है ' , समीर सोनी

समीर सोनी ऑल्ट बालाजी के शो कार्टेल में एक नए अवतार में नजर आने वाले है। उनका किरदार काफी रुथलेस है।
 
'शो कार्टेल में मेरा किरदार बहुत ही ईविल है ' , समीर सोनी

समीर सोनी ऑल्ट बालाजी के शो कार्टेल में एक नए अवतार में नजर आने वाले है। उनका किरदार काफी रुथलेस है। शो 20 अगस्त को रिलीज हो रहा है और शो को लेकर काफी उत्साह है। उन्होंने की बात न्यूज़ हेल्पलाइन से शो और अपने किरदार को लेकर :शो के ट्रेलर को काफी अच्छा रिस्पांस मिला है। इस बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा, "शो के ट्रेलर को इतना प्यार मिला है कि अब जिम्मेदारी बढ़ गयी है। सब लोग बहुत हैरान है आखिर शो में क्या देखने को मिलने वाला है और सबकी शो से काफी उम्मीद है। पर मुझे हमारे काम पर पूरा भरोसा है और यह शो ऑडियंस को बेहद पसंद आने वाला है। “शो में अपने किरदार के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा, "मैं शो में दोराबजी के रोल में नजर आ रहा हूँ जो एक इंडस्ट्रियलिस्ट है। उसका अंडरवर्ल्ड और पॉलिटिशियन के साथ काफी कनेक्शन है। शो में 5 परिवार है जो मुंबई पर राज करना चाहते है। इन सबके बीच लड़ाई चल रही है सत्ता पाने की और मैं उनकी लड़ाई का फायदा उठाता हूँ।दोराबजी बहुत ही ईविल आदमी है जो कुछ पाने के लिए हर लिमिट क्रॉस कर सकता है। “

Must Read यसीर देसाई के लिए चेहरे में इमरान हाश्मी के लिए 'रंग दरिया' को  गाना, एक सपने के सच होने जैसा है

अपने रोल के लिए क्या तैयारी की, इसपर बात करते हुए उन्होंने कहा, "रोल के लिए तैयारी से ज्यादा हमने इस किरदार के लुक को लेकर तैयारी की। हमने कई अलग अलग लुक ट्राई किये , जैसे लम्बे बाल. सॉल्ट एंड पेपर लुक और फाइनली जो लुक फाइनल हुआ उसमे मैं पूरे सफ़ेद बालों में नजर आ रहा हूँ।  साथ में मैंने ग्रे रंग के कांटेक्ट लेंस पहने है। “शो ऑफर होने पर अपने पहले रिएक्शन के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा, "जब मुझे यह रोल ऑफर हुआ मेरा रिएक्शन था बाप रे बाप। पर मैं मेकर्स का धन्यवाद करना चाहता हूँ जिन्होंने मुझे इस रोल के लिए फिट समझा। मैं इस इंडस्ट्री में 20 साल से हूँ और हमेशा से मैंने गुड बॉय करैक्टर किये है। यह किरदार मेरे लिए काफी अलग था। “अपने रोल किस तरह से चूज़ करने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने बताया, "मैं सबसे पहले प्रोजेक्ट के मेकर्स देखता हूँ। कई बार स्क्रिप्ट अच्छी होने के बाद भी अगर मेकर्स में वह कैपेसिटी नहीं होती उसको एक्सीक्यूट करने की तो सब बेकार हो जाता है। दूसरा मैं देखता हूँ मुझे यह रोल कितना पसंद आ रहा है क्या मैं उसको परफॉर्म करते हुए एन्जॉय कर पाऊंगा ? तीसरा मैं अपने से सवाल करता हूँ इस किरदार में मैं क्या नयापन ला सकता हूँ ? मैं अपने हर किरदार के साथ कुछ नया लाने की कोशिश करता हूँ। "

Disclaimer: This post has been auto-published from an agency news helpline feed without any modifications to the text and has not been reviewed by an editor