फिल्मों के बाद रामानायडू दग्गुबाती के प्रोडक्शन हाउस ने 'सुरेश प्रोडक्शन म्यूजिक' की शुरुआत की।

सिनेमा जगत में भारत की बड़ी प्रोडक्शन कंपनीयों की बात की जाए तो 'सुरेश प्रोडक्शन' का नाम जरूर शामिल किया जाता है। हैदराबाद में इस प्रोडक्शन और डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी ने सिनेमा जगत में पिछले 50 सालों तक अपनी भूमिका निभाई है
 
फिल्मों के बाद रामानायडू दग्गुबाती के प्रोडक्शन हाउस ने 'सुरेश प्रोडक्शन म्यूजिक' की शुरुआत की।

सिनेमा जगत में भारत की बड़ी प्रोडक्शन कंपनीयों की बात की जाए तो 'सुरेश प्रोडक्शन' का नाम जरूर शामिल किया जाता है। हैदराबाद में इस प्रोडक्शन और डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी ने सिनेमा जगत में पिछले 50 सालों तक अपनी भूमिका निभाई है और अब भी इस प्रोडक्शन हाउस द्वारा बेहतरीन फिल्मों को रिलीज किया जा रहा है। इस प्रोडक्शन हाउस की शुरुआत साल 1964 में साऊथ के बेहतरीन कलाकार एनटीआर की फिल्म को रिलीज करते हुए की गई थी। इस प्रोडक्शन कंपनी के फाउंडर रामानायडू दग्गुबाती रहे।ऐसे में अब इस प्रोडक्शन हाउस ने अपने नए सफर की शुरुआत की हैं।‌ इस प्रोडक्शन ने आज अपने सोशल मीडिया पेज पर एक नोट को शेयर किया। जिसके जरिए जानकारी दी गई कि अब वो अपने प्रोडक्शन हाउस के अंडर कई म्यूजिक विडियो को भी प्रोड्यूस करेंगे। ऐसे में अपने इस म्यूजिक प्रोडक्शन हाउस कंपनी का नाम और लोगो को आज शेयर कर खुशी जाहिर की गई।

और भी पड़ें: वर्ल्ड रेफ्युजी डे' पर यूनिसेफ इंडिया के साथ जुड़कर प्रियंका चोपड़ा ने रेफ्युजीस के हक की बात कही

बता दें कि म्यूजिक कंपनी का नाम 'सुरेश प्रोडक्शन म्यूजिक' रखा गया। इस पोस्ट को कलाकार राणा दग्गुबाती भी शेयर करते दिखे और राणा ने भी इस शुरूआत पर खुशी जाहिर की। इस पोस्ट को शेयर कर बताया गया कि, 50 साल से फिल्मो को प्रोड्यूस करने के बाद अब गानों को भी प्रोड्यूस किया जाएगा। आखिर ‌गाने ही तो‌ भारतीय फिल्मों की सबसे खूबसूरत पहचान हैं...' इसी के साथ-साथ कई कलाकार भी इस नए शुरुआत पर बधाईयां देते दिखे।सुरेश प्रोडक्शन हाउस द्वारा अबतक 124 फिल्मों को प्रोड्यूस किया जा चुका है। जिसमे तमिल, तेलुगु,, पंजाबी, गुजराती, मराठी, भोजपुरी, हिंदी, मलयालम, ओरिया और बंगाली भाषी फिल्मों का भी समावेश है। इन फिल्मों के सिलसिलों को अब म्यूजिक के क्षेत्र में भी बखूबी बनाए जाने की उम्मीद हैं।

Disclaimer: This post has been auto-published from an agency news helpline feed without any modifications to the text and has not been reviewed by an editor