Happy Republic Day | Azaadi Ke Liye | Pritam | Arijit Singh, Tushar Joshi | Amazon Prime Video

Happy Republic Day | Azaadi Ke Liye | Pritam | Arijit Singh, Tushar Joshi | Amazon Prime Video

Follow us on Facebook, Instagram, Twitter, & Google News, also subscribe to us on YouTube for Paparazzi Videos

33 thoughts on “Happy Republic Day | Azaadi Ke Liye | Pritam | Arijit Singh, Tushar Joshi | Amazon Prime Video

  1. Happy Republic Day ❤️ but I m a fan of Hammad Khatri. He hearing impaired Youtuber. No one know him. His channel name Hammad Khatri
    Jai Hind 🇮🇳

  2. More than half of the People in the comment section are asking for Family Man season 2 trailer.
    😂😂😂😂
    Family man is gonna to rock..

  3. When I see the comment section , I realise "The Family Man" (fiction) is way more important than the Azad Hind Fauj (Our history) .

  4. #चुप्पियों_का_बहरापन

    आप अब एक वयस्क बन गए है और कभी ये भी आपके ज़ेहन में बात मंडरा रही हो कि,अब कुछ कमाया जाए |भारत में यदि आप स्नातक डिग्रीधारी हैं तो ज़ाहिर हैं आपके चाहनेवाले आप से 'नौकरी' की ही अपेक्षा रखेंगे | क्या आप इस पर आम सहमति बना सकते है कि नौकरीपेशा वर्ग ही सफलता को चुमता है?
    मास्टर की संतति मास्टर ,वकीलों की वकील,पुलिसों की पुलिस,डाक्टरों की डाक्टर और किसानों की किसान न बनें तो फिर क्या बनें?क्या कोई मध्यमवर्गीय पालक इस सोच पर कायम रह सकते हैं कि उनकी अगली पीढ़ी बनेगी तो सिर्फ डाक्टर या अभियंता? क्या स्नातकोत्तर पालकवर्ग अपने बच्चों को सोने के अंडे देने वाली मुर्गी नहीं समझते?या फिर बुढ़ापा सिक्योर करना हैं इसलिए बच्चे की नौकरी ज़रूरी है ?क्या मौजूदा शिक्षाव्यवस्था में कमीयाँ हैं? क्या पूर्वाग्रहों का लक्ष्यों पर हावी होना ,कि लीडर पैदा हो पर मेरे घर से नहीं?
    इस गणतंत्र में एक ऐसा गण भी हैं,जिसे शायद ही कोई सुनना चाहता हो | हम अपने जीवन में कभी न कभी तो विद्यार्थी रहे हैं,पर आज स्कूलों ,कालिजों और विश्वविद्यालयों में विद्यार्थियों की शिक्षा ,महज दीवारें पूरी कर रही हैं | मेरी दीवारों से एक गुज़ारिश हैं,की वह महज़ औपचारिकता के लिए नहीं ,विद्यार्थियों की चेतना के लिए खड़ी रहें,अन्यथा खुद ही ढह जाए | बिजली के तार जब काट दिए जाए तो एक बेचैनी होती हैं !लेकिन मुर्दा ज़मीरों में कोई दौड़ता करंट नहीं होता | महीने की पगार मिल रही हैं ,तो आवाज उठाना गुनाह हैं |
    ऐसा गणतंत्र जहाँ तंत्र गण पर हावी हो ,जिसमे सोलह फीसदी लोग ही तज्ञ हो(कंप्यूटर शिक्षा),सिर्फ बावन फीसदी स्कूलों में बिजली हो,वह कैसे औद्योगिक क्रांति में अपना योगदान करेगा? यह हर क्षेत्र में बाधाकारक हैं | इस खाई को पाटने के लिए मौजूदा सरकारों ने शायद ही कोई ध्यान दिया हो,मगर भवनों की दीवारें चमक रही हैं |तो आप लाल-फीताशाही वर्ग की अनदेखी का क्या इसमें योगदान नहीं मानते?या वे अफसरान सिर्फ सिर नवाने के लिए 'नौकरशाह' बनें हैं ?
    कोई जिला सबसे ज़्यादा ग्रामीण जनता बाहुल्य इसलिए भी हैं क्योंकि विधायक ,सांसद,मेयर ,आदि सिर्फ चुनावी समीकरणों से पैठ बनाए हुए हैं और अपनी आवाज़ को दीवारों की आड़ में सीने से बाहर नहीं निकलने दे रहें हैं |
    #MayurWahane
    #TheOpinion
    #TheEnlightened
    #26January2021

  5. Don't go below everyone talking about the family season 2 but no one talking about this song what a song whenever i listen this i got goosebumps.

  6. The Forgotten Army was an amazing and very moving dramatisation. They will never be forgotten again. Happy Republic Day

  7. 🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳 Happy Republic Day 🇮🇳🇮🇳🇮🇳. Dhum machale 🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

Leave a Reply

Sponsored Video